मंगलवार, 12 नवंबर 2013

  " सनातन ",,,,!!

     ' तिमिर '  ,' अग्नि '  , ' शून्य ' ने ,
      मिलकर रचा ' ब्रम्हांड ' ,,!
      अपरिमित ,,
       सीमा रहित ,,,!!

      ' ज्ञात जितने ,
         उतने ही ' अज्ञात ' ,
          सूक्षतम बन ,
          वृहततम , में व्याप्त ,
           त्रिलोकी वे  ,
             देव त्रय ,,,!!

          ' संकुचित   स्वयं ,
             स्वयं ही ' विस्तार ' ,
             एक दूजे के वे पूरक ,
              आपसी  " आधार " ,,
                स्वयं पालक ,
                  स्व  ' विनाशक ' ,,!!

             ' विलय हैं , जिसमे सभी
,               ऊर्जा के रूप ,
                विरलता धारण किये ,
                 जहाँ ' तत्व ' सारे  ' घनीभूत ' ,
                   वह तिमिर  ,,,
                     वही  ' हर ' ,,,!!
             
                    सदा चेतन  ,
                     सृष्टि   केतन ,,
                      ' पितृ ' भाषित ,
                       स्व प्रकाशित ,
                       ' ब्रम्ह ' अग्नि ,
                         स्वयं भू ,
                          स्वयं जीवन ,
                           स्वयं जीव ,,,!
                     
                          श्याम वर्णी ,
                         गहन धारक ,
                         संवहन , गतिचक्र साधक ,
                            शून्य में