गुरुवार, 26 सितंबर 2013

gahre pani paith

" गहरे पानी पैठ ........." !!

मानव जीवन में ' मित्र' शब्द का अद्भुत अस्तित्व है ॥

अन्ग्रेजी में जहाँ इस सम्बन्ध को एक शब्द - " फ्रेंड " के नाम से सीमित दायरे में बाँध दिया गया है , वहीं हिंदी में इस को कई नामों --' मित्र ', 'सुह्रद', 'सखा' से परिभाषित किया गया है । मित्रता वह अनुभूति है जिसे लिंग , स्थान , जाति, के बन्धनों में नहीं बांधा जा सकता । हिंदी में जहाँ पुरुष मित्र को ' सखा' के रूप में संबोधित किया गया है वहीँ ' स्त्री ' मित्र को ' सखी ' के रूप में । वृन्दावन की कई स्त्रियाँ , कृष्ण की सखी थी - और कृष्ण ने मित्र भाव से इनके साथ जीवन जिया ।

मित्र भाव - " सम- भाव " है । इसमें ना तो कोई बड़ा होता है , ना कोई छोटा । इसमें उम्र भी कोई अस्तित्व नहीं रखती । ' सम-भाव ' सामान अनुभूतियों , सामान विचारों , और सामान पसंद से उपजता है । यह निष्कपट , निष्कलंक होता है । बाल्य काल के मित्र इसी सम- भाव के साथ आगे बढ़ते है । कृष्ण की सखियाँ , कृष्ण को बिना देखे नहीं रह पाती थी - वे उनके साथ शरारतों में सम-भाव से सम्मलित होती थी । अपने - अपने दांव को निष्कपट भाव से खेलने वाले ये मित्र अनोखे थे - जो चोर- सिपाही का खेल क्रमशः खेलते रहते थे ।

मित्र भाव में 'ज्ञान ' की कोई भूमिका नहीं । ज्ञान मनुष्य के चारों ओरकई तर्क ,, कई दायरे खडा कर देता है , जो मित्र भाव में सर्वथा वर्जित है । " राम कथा " में " राम " सदेव ग्यानी के स्वरूप में ही हमारे सम्मुख आते है .इसी कारण उनके मित्रों की सूची शून्य है । " राम - सुग्रीव " अथवा " विभीषण - राम " मित्रता , उद्येश्यों की प्राप्ति के लिए की गई राजनेतिक संधि है , अतः मित्रता के दायरे में नहीं आती । यह विडम्बना ही है की राम के जीवन में मित्रता का नितांत अभाव है , जबकि कृष्ण का युवा काल " मित्र -रस " से रसा - पगा है । यही कृष्ण जब ग्यानी हो जाते है तो मित्रों को खो देते है । कृष्ण - अर्जुन का सम्बन्ध भी मित्रता के दायरे में नहीं आता , क्योंकि वहा " सम- भाव " नहीं है । ग्यानी कृष्ण जब अपनी बाल्य काल की सखियों को "अनासक्ति " का पाठ पढ़ाने की चेष्टा , अपने दूत " उद्धव " के जरिये करते है , तो उद्धव - " सम भाव ' के शब्द बाणों से आहत होकर , ज्ञान की अपनी क्षत - विक्षित पोथी को लेकर कृष्ण के पास वापिस लोट आते है ।

मनुष्य के अन्य सम्बन्ध सीमित है , किन्तु मित्रता के सम्बन्ध असीमित है । पिता का सम्बन्ध ' एक ' है , माँ का -एक , पत्नी का - एक , भाई बहिनों के - तीन चार , किन्तु मित्रता के सम्बन्ध असंख्य हो सकते है । यहीं आकर मित्र शब्द -" सखा" शब्द से भिन्न हो जाता है । सखा - " अस्तित्व " है और मित्र - " अनुभूति " । 'अस्तित्व' हमारे जीवन का 'सहभागी' होता है , जबकि 'अनुभूति ' विचारों से 'सहभागिता' करती है । सखा या सखी के सामने हम ह्रदय के पट पूरी तरह ख़ोल देते है , वह हमारी संवेदनाओं की सहभागिता करता है , निष्कपट , निष्कलंक भाव से , ओर हम अपना बोझ उतार कर उसे दे देते हीवह ब्प्झ जो हम अंतस में ढो रहे होते हैं , उसे मात्र सखा ही ग्रहण कर सकता है , मित्र दिलासा दे सकता है , उपाय बता सकता है, सहानुभूति प्रकट कर सकता है , हमें बोझ रहित नहीं कर सकता ।

पश्चिम से आई सभ्यता ओर तकनीक ने , मित्रता के दायरों को विशाल समुद्र में बदल दिया है । आधुनिक युग में मित्रता के लिए हमारे सामने भीड़ खड़ी है । हम जिसे चाहे , उसे मित्र के रूप में चुन सकते है । मित्रता के इस मंच को उत्पन्न करने वाली कई साइट्स आपस में व्यावसायिक प्रतिद्वंदिता में संघर्ष रत है ओर लोगों को कई विकल्प देती है ओर - लोग अपनी अपेक्षाओं ओर सुविधाओं के हिसाब से इनका उपयोग करते है ।

युवा वर्ग में मित्रता का मानदंड - ' फेस ' है । वे चेट्स करना चाहते है । मनोरंजन मित्रता का उद्येश्य है । ओर अपने अकाउंट में अधिकतम संख्या में " हिट्स " जोड़ना चाहते है । इस व्यापारिक जगत में , विचारों के लिए उनके पास समय नहीं है । जबकि " वयस्क " " व्यक्ति , वहां वहां से तलाशकर जुगाड़े गए संदेशों से खुद को व्यक्त करना चाहते है । वे चाहते है की लोग उनको चिन्हित करें , वे  लोकप्रिय  हों । वे अपनी भावनाओं को फ़िल्मी गीतों के माध्यम से भी स्फुटित करते है ओर अपना सहभागी तलाशते है । आधुनिक काल खंड से प्रायः कट गया उम्र दराज़ व्यक्ति , विचारों को व्यक्त करने से डरता है , क्योकि वे विचार आधुनिक समाज को स्वीकार्य नहीं । ऐसे लोगों की संख्या इन मंचों पर लगभग नगण्य ही रहती है ।

स्त्रियाँ इन नायाब मंचो की शोभा होती है । दाम्पत्य जीवन की कठिन नाव पार सवार स्त्रियाँ , मित्रता की नाव पर भी एक पैर रखना चाहती है, किन्तु इसके लिए वे डरी सहमी भी रहती है । मित्रता का मुखौटा लगा कर , अपरिपक्व , असामाजिक तत्व उनसे अप्रसांगिक बातें करने का प्रयत्न करते है । इस लिए अधिकाँश स्त्रियाँ - " नो चैट " की तख्ती के साथ - अपने ज़ोन पर ताला लगा कर रावण से ठगे जाने की सभी संभावनाएं ख़त्म कर देती है । ये स्त्रियाँ विचारों की दुनिया में सहभागिता चाहती है , अपने विचार व्यक्त करना चाहती है , किन्तु इसके लिए जो मित्र उन्हें चाहिए , उन्हें इन मंचों पर ढूंढना उनके लिए कठिन होता है । अधिकतर पुरुष , मित्रता की आड़ में स्वच्छंद स्त्री मित्र की तलाश करता है , जबकि यथार्थ में कोई भी स्त्री कभी स्वच्छंद होती ही नहीं । वस्तुतः जो भी स्त्री- पुरुष स्वच्छंदता की परिभाषा में आते है , उनके लिए मित्रता कोई मायने नहीं रखती , क्योंकि वे मित्रता को एक खेल के रूप में ही लेते है ।
मित्रता के इस विशाल सागर में , आज मित्रता मछलियों की तरह तैर रही है । किन्तु सागर का पानी 'खारा' है - उसमें मिठास नहीं है । और इसीलिए मित्रता की उस स्वाभाविक मिठास की प्यास हमें तब भी बनी ही रहती है । " नो स्ट्रेंजर " के नारे के पीछे , हम अपरिचित नहीं रहते , किन्तु पूर्णतः परिचित भी नहीं होते । वस्तुतः संमाज से बड़ा कोई मंच , सखा या मित्रता के लिए हो ही नहीं सकता । अपने घर के दरवाज़े बंद करके हम पडोसी से बात चीत करने से भी कतराते है , किन्तु आकाशीय मार्ग पर चर्चा करके एक " कल्पनीय " समाज की सरंचना कर रहे होते है , जहां - " मुख- चित्रों " के पीछे छिपे , किसी अपने जैसे व्यक्ति की हमें तलाश होती है । यह एक मृग मारीचिका है जो मानसिक सूख तक सीमित रहती है ।
हमें अपने संसार को रचने की स्वतन्त्रता है सुख़ की अनुभूति हमारी अपनी है , वह जहां मिले उसे पाना हमारा अधिकार है । अपने विचारों पर टिपण्णी या तालियाँ पाकर हमें सूख या संतोष मिल सकता है , किन्तु मित्रता का - " सम भाव " नहीं । वह फिर भी हम से बहुत दूर रहता है । जैसा की मेने कहा - " सम-भाव " " अस्तित्व " है , " अनुभूति नहीं , इसलिए मंचीय मित्रता के साथ साथ , हमें अपने घरों के दरवाज़े खोल कर , पड़ोस में भी एक मित्र ढूंढना होगा । यह मित्र एक अस्तित्व होगा । यह मित्र आपसे मज़ाक कर सकता है , आपकी संवेदनाओं में शरीक हो सकता है , अन्याय के विरुध्ध कंधे से कंधा मिला सकता है और वैचारिक सहभागिता भी कर सकता है ।
अपने पड़ोस में ऐसे मित्र को ढूँढना एक कठिन बात है । क्योंकि मित्रता में " ज्ञान " वर्जित है और अस्तित्व पूर्ण मित्रता में 'ज्ञान' आड़े आता है । ज्ञान हमारे बीर्च " स्टेटस " की दीवार खड़ी करता है , और हम में अपने अस्तित्व का अहम् पैदा करता है .और इसी कारण मित्रता नहीं मिलती । कृष्ण यदि खुद को " इश्वर " स्वरुप में गोपियों के समक्ष प्रस्तुत करते तो वे उनके सखा नहीं बन सकते थे ।
कबीर ने कहा -
" जिन खोजा तिन पाइयां , गहरे पानी पैठ ॥,
हों बौरा डूबन दारा , रहा किनारे बैठ ।।"
मित्रता का मोती पाना है तो गहराई में उतरना ही होगा । किनारे बैठे व्यक्ति को , लहरों की सतह पर उतराते हुए मोती नहीं मिल सकते । 'दिया' अपने नीचे अन्धेरा रख कर दूर तक कालिमा से युध्ध करता है किन्तु उसे 'सूर्य ' नहीं कहा जा सकता । सूर्य की किसी भी दिशा में चारों और सिर्फ प्रकाश ही प्रकाश ही है । मित्रता सूर्य की तरह है - जिसे अपने चारों और प्रकाशित होना ही चाहिए ।
------सौरभ
   ( सभाजीत शर्मा )




मंगलवार, 10 सितंबर 2013

 पंडित राम  चरण दास  महंत , ने भगवान् ' जगन्नाथ ' की मूर्ति के आगे पर्दा खींचा , और उन्हें ' सोया ' हुआ  मान कर , आरती में आये पैसे गिने ! कुल अदद बीस रुपये ही चढ़ाए थे भक्तों ने , प्रसाद में भी इलायची दाने  थे  , लड्डू , या बर्फी चढाने वाला कोई नहीं आया था !
    रामचरण दास  ने , लोहे के कपाट बंद किये , उसमें गोदरेज का भारी ताला  डाला  , इतनी कम चढ़ोतरी  पर  एक उन्सास भरी ,  ,  और रोज की तरह आश्वस्त हो गए  की  अब भगवान् पूरी तरह सो गए होंगे  , बाहर आने का तो प्रश्न ही नहीं !
   मंदिर के बाहर आँगन था , उसमें एक बल्ब जलता रहता था ! आँगन से लगी राम चरण दास की कोठारी थी , जहाँ वे अपने बालक के साथ रहते थे ! रामचरण दस , नदी किनारे एक गाँव के रहने वाले थे १ बचपन से ही उन्हें मेहनत  से लागाव नहीं था , उनके दादाजी ने उन्हें सिखाया था की सब भगवान् देता है , ! एक कहावत उनके दादाजी कहा करते थे - ' जब दांत ना थे तब ' दूध ' दियो , अब दांत हुए तो क्या खाय को ना देगा वो .?? "   रामचरण इसी मन्त्र को पढ़ते हुए , यहाँ शहर के बाहरी भाग में आ गए थे , जहाँ एक सेठ ने अपनी पत्नी के वियोग में इस मंदिर का निर्माण करवाया था ! वो सेठ यह मंदिर इन्हें सोंप कर  ' पत्नी ' के पास ' गोलोक ' सिधार गया था !
        रामचरण ने अपना झोला चेक किया ,  शंख , झालर , जगन्नाथजी की छोटी मूर्ति , झोले में अपनी जगह थी !   ' कल  गणेश चतुर्थी है - कई जगह मूर्तियाँ बैठाई गयी हैं , जहाँ उन्हें ' प्राण - प्रतिस्था ' करवाने जाना होगा ! कमाई  का दिन है , जल्दी उठना  होगा १  वे आगे बढ़ कर आँगन में आगये १ बल्ब बुझाना जरुरी था ! बिजली वाले अनाप- शनाप बिल दे जाते हैं , यदि ना बुझाया तो खर्चा बढ़ जाएगा !
   उन्होंने आँगन का बल्ब बंद किया और मुड़  कर अपनी कोठारी को जाने को हुए तो देखा , आँगन के कोने में एक भेंसे पर सवार '    काला , मोटा सा आदमी , अपनी    लाल लाल ' आँखों सेउन्हें घूर  रहा था !
   रामचरण की आँखें फटी की फटी रह गयीं ! फंसे हुए गले से किसी तरह ताकत बटोर कर वे बोले -- ' कौन है। .?? कौन है वहां ,,???
      तब तक    उन्होंने आँगन का बल्ब बंद किया और मुड़  कर अपनी कोठारी को जाने को हुए तो देखा , आँगन के कोने में एक भेंसे पर सवार '    काला , मोटा सा आदमी , अपनी    लाल लाल ' आँखों सेउन्हें घूर  रहा था !
   रामचरण की आँखें फटी की फटी रह गयीं ! फंसे हुए गले से किसी तरह ताकत बटोर कर वे बोले -- ' कौन है। .?? कौन है वहां ,,???
      तब तक वह आदमी अँधेरे से निकल  कर   रामचरण  के सामने आकर खड़ा हो गया !  रामचरण को उसने पूछा-
      ' कैसे हो रामचरण ',,,?
        ठीक हूँ महराज। ."किसी तरह  थूक निगलते हुए रामचरण के मुंह से आवाज़ निकली ,,, ,,
      -- लेकिन आप कौन हैं ,,,?? "
        वह हंसा --- मुझे नहीं पहचाना रामचरण ,,,/ कैसे पुजारी हो तुम ,,? ,,, मैं ' यम ' हूँ ,,,,यमराज ' ,,,! "
       रामचरण की आंखजों के सामने अन्धेरा छा गया ! वह भरभरा कर गिरने को हुआ की उस व्यक्ति फिर कहा ----  " घबराओ नहीं ,,,! मैं तुम्हारे लिए नहीं भगवान जगन्नाथ के लिए आया था ,,, यहां से निकल रहा था तो सोचा उनसे मिल लूँ ,, ,,,पर देख रहा हूँ की तुम उन्हें ताले में बंद कर दिए हो ,,,"
        हाँ प्रभु ,,, वे सो चुके थे ,,, इसलिए  द्वार का ताला लगा दिया ,,, कहिये तो खोल दूँ ,,,! '
       - ' अरे नहीं ,,  मुझे अंदर जाना होगा तो मैं बंद दरवाजे के अंदर वैसे ही घुस जाऊंगा ,,, ,   अब यहाँ ठहर ही गया हूँ तो चलो तुमसे ही बात करलूं --- धर्म के लिए क्या कर रहे हो आजकल ,,??
     '  प्रभु आजकल धर्म रह ही कहाँ गया ,,?? ,,, लोग ' पिज्जा ' ' बर्गर ' -'' में सैकड़ों रुपये खर्च कर रहे हैं लेकिन  ,,, मंदिर में एक रुपये से ऊपर नहीं चढ़ाते ,,,!   अब सिर्फ त्योहारों की प्रतीक्षा करता रहता हूँ  की कब आएं -- मूर्तियां स्थापित हों ,,,और   मेरी पूछ बढे ,,, ! "
          हूँ ,,' यमराज  ने हुंकारा भरा- !-   तो  '  अब मूर्तियां -स्थापित करना ' धर्म ' हो गया है ,,,??
            हाँ महराज --'  रामचरण थोड़ा उत्साहित होकर बोला -  '  अभी  गणेश  उत्सव है '  है ,,,  आगे दुर्गा उत्सव आएगा ,,,इसी बीच पितरों के श्राद्ध के दिन भी आएंगे ,,  इसमें कुछ कमाई हो जायेगी ,,, इस साल मूर्तियां पिछले साल से ज्यादा बन रही हैं ,,,  ' प्राण प्रतिष्ठा ' से भी काफी कुछ मिल जाएगा ,,,!!     '  प्रभु आजकल धर्म रह ही कहाँ गया ,,?? ,,, लोग ' पिज्जा ' ' बर्गर ' -'' में सैकड़ों रुपये खर्च कर रहे हैं लेकिन  ,,, मंदिर में एक रुपये से ऊपर नहीं चढ़ाते ,,,!   अब सिर्फ त्योहारों की प्रतीक्षा करता रहता हूँ  की कब आएं -- मूर्तियां स्थापित हों ,,,और   मेरी पूछ बढे ,,, ! "
          हूँ ,,' यमराज  ने हुंकारा भरा- !-   तो  '  अब मूर्तियां -स्थापित करना ' धर्म ' हो गया है ,,,??
            हाँ महराज --'  रामचरण थोड़ा उत्साहित होकर बोला -  '  अभी  गणेश  उत्सव है '  है ,,,  आगे दुर्गा उत्सव आएगा ,,,इसी बीच पितरों के श्राद्ध के दिन भी आएंगे ,,  इसमें कुछ कमाई हो जायेगी ,,, इस साल मूर्तियां पिछले साल से ज्यादा बन रही हैं ,,,  ' प्राण प्रतिष्ठा ' से भी काफी कुछ मिल जाएगा ,,,!!

      ' प्राण प्रतिष्ठा ",,,,???,,,, यमराज की भृकुटि तन गयी ,,,,! ,,
       ,' अरे  मूढ़ रामचरण ,,,   तुम किससे क्या बात कर रहे हो मालुम है ,,??    ,,,, ' मैं ' यमराज ' ,,, प्राणो को हरने वाला ,,,,और तुम   क्या भगवान हो --- ' प्राणो को प्रतिष्ठित ' करने वाले ,,,??,,,  अपनी औकात मालुम है तुम्हें ,,,??

      रामचरण की सिट्टी पिट्टी गम हो गयी  ,,, घबरा कर बोला --- ' प्रभु  में तो मूर्तियों में प्राण प्रतिष्ठित करने की बात कर रहा था >>>! '
        अब याम लगभग आपे से बाहर हो गए ,,,!  बोले --
        मूर्र्तियों में ,,?? किसकी मूर्तियों में ,,?? ,,, भगवान की मूर्तियों में।   vighn       vinaashak     ganesh     ganesh       मूर्र्तियों में ,,?? किसकी मूर्तियों में ,,?? ,,, भगवान की मूर्तियों में   ??   विघ्न विनाशक और  माँ चंडी की मूर्तियों में ' प्राण '',,??    कहाँ  स्थापित है यह मूर्ति   किस मंदिर में ,,,? क्या वहां उनकी मूर्ति  के ऊपर ' गुम्बद ' बनाया तुम्हंे ,,, क्या उस स्थान को वास्तु से मुक्त किया तुमने ,,क्या उस स्थान की ' दिशा ' देखी तुमने ,,,??   क्या तुम नहीं जानते की इन आदि शक्तियों से खिलवाड़ नहीं किया जाता ,,,बहुत सोच समझ कर स्थापित की जाती हैं वो मूर्तियां ,,,?? ,,

     रामचरण को तो काटो तो खून नहीं ,,,,!  गिड़गिड़ाकर बोला --

 ' प्रभु ये मूर्तियां अस्थाई होती हैं ,,,, मिटटी की बनी ,,,  इसमें दुर्गा के साथ साथ ' महिषासुर ' भी  स्थापित होता है ,,,!!   नो दिन बाद इन्हे नदी में विसर्जित कर दिया जाता है ,,! "

      ' ओह  तो यह भी शुरू कर दिया तुमने ,,, पृकृति में व्याप्त इन ईश्वर की शक्ति - मूर्तियों को   ' अस्थाई ' रूप से भी स्थापित करने लगे ,,,?