सोमवार, 27 मई 2013

धर्म  कारोबार  है ...,
 व्यापार के लिए ,
धर्म  हथियार है ..,
'नर संहार ' के लिए ..,
धर्म पर्दा है ..,
व्यभिचार के लिए ,
धर्म जंगल  है   ,
लूटमार के लिए ..,
धर्म के कई रूप , कई रंग ..,
बहरूपिये संसार के लिए .., ,
 आओ धर धारण करें ..,
इंसानियत  के  बंटाधार के लिए ...!!
 ..,