बुधवार, 29 अगस्त 2012

शनिवार, 18 अगस्त 2012


 भारत में कांग्रेस सरकारें  नेहरु युग से ही देश के दुश्मनों से लड़ने की जगह , खुद के दुश्मनों का सफाया करने में ज्यादा संलग्न रही ! नेहरु को अपनी आलोचना कभी स्वीकार्य नहीं रही ! पटेल नेहरु विवाद इस मायने में चर्चित रहा ! बाबा साहब आंबेडकर और नेहरू के बीच की तल्खी , आज की पीढ़ी ने ' कार्टूनों ' के ज़रिये जानी , जिस पर वर्तमान में विवाद करके उसे तुरंत द्रश्य पटल से हटा दिया गया ! बाद में इंदिरा ने सिंडिकेट - इन्डिकेट नाम पर खुद अपनी ही पार्टी के पदाधिकारियों का पार्टी से सफाया किया ! इमरजेंसी तो एक बड़ा नमूना है ही , जिसमे कई विरोधियों को जेल में डाला गया !! वी पी सिंह को मौका मिला तो उन्होंने राजीव गाँधी का ही पत्ता साफ़ कर दिया ! नरसिम्हा राव और अति महत्वाकांक्षी अर्जुन सिंह की लड़ाई आज भी किताबों में झलकती रहती है !  सीताराम केसरी को लज्जित करके पद से हटाया गया और उस पर सोनिया गांधी की ताजपोशी तब की गयी , जब उन्हें राजनीती का क ख ग भी नहीं आता था , और वे सिर्फ इदिरा जी का वीडियो देख कर उनकी चाल ढाल की नक़ल , भोले देशवासियों को प्रभावित करने के लिए कर रही थी ! इंदिराजी की आवाज़ की नक़ल करके , उन्होंने टूटी फूटी अंग्रेजी शेली  की हिंदी में लोगों को लुभाने की कोशिश की , और साथ ही कांग्रेस की स्वतंत्र विचारधारा को , एक कार्परेट घराने की विचारधारा में बदल डाला , जहाँ अध्यक्ष का अर्थ ' मालिक ' और 'पदाधिकारियों ' का मतलब ' कर्मचारी हो गया ! स्वतंत्र व्यक्तित्व वाले कांग्रेसी हमेशा के लिए कांग्रेस के पटल से गायब हो गए  और सरकार के  बड़े पदों पर वे लोग बेठाए गए जिनकी अपनी कोई छवि , या आवाज़ नहीं ! !
 इन राजनेतिक कार्यप्रणालियों के बीच जब पकिस्तान से युद्ध हुए , और ' सेना '  ने उन्हें जावाज़ी से जीत लिया , तो उस जीत का   श्रेय कांग्रेस ने अपनी झोली में डाल लिया !   चीन के युद्ध की पराजय , शिमला , ताशकंद समझौता की विफलता को जनता की यादों के पटल से मिटा दिया गया ! पाकिस्तान ने . बँगला देश की की पराजय का बदला निकालने के लिए काश्मीर में आतकवादी उतारे , कश्मीरी पंडितों ने जब वहां से पलायन किया तो उसे देश दुश्मनों की कार्यवाही मान कर सचेत नहीं हुए ! मुंबई हमले पर पकिस्तान के साथ  ' बयान बाज़ी की ' शुरवीरी करते रहे ! हमलावरों को  त्वरित ' दंड ' देने में पूरी तरह विफल रहे ! पूरा फोकस इस बात पर रहा की क्रिक्रेट , खेल, आयोजनों के जरिये कैसे पैसा कमाया जाये !  राजीव गाँधी की इमानदार पहल " संचार ' क्रांति को २ जी  स्प्रेक्तम के जरिये कैसे अपने खातों को बढ़ाने में लगाया जाये ! देश की जनता ' महगाई ' पर 'हाहाकार ' करती रही और  कांग्रेस उसे ' वैश्विक अर्थव्यवस्था ' के पाठ पढ़ाती रही ! सी बी आई को देश के दुश्मनों के विरुद्ध सक्रिय करने के स्थान पर अपने विरोधियों के विरुद्ध सक्रिय करने में पूरी होशियारी दिखाई ! ' सरकार ' चाहती तो सी बी आई का नेट वर्क ,  चीन , रूस , अमेरिका , की तरह , भारत देश की हर गली हर गाँव में फैला चुकी होती , और देश के दुश्मनों , की एक एक हरकत पर पहले से ही नज़र रखती , लेकिन उसे ऐसा करने की फुर्सत इसलिए नहीं मिली क्योंकि देश के दुश्मनों से ज्यादा , उसे खुद के दुश्मनों पर नज़र रखने की ज्यादा अहमियत समझ में आयी !
जनता के द्वारा ' त्रस्त ' होकर उठाये गए ' आंदोलनों ' को विफल करने में  कांग्रेस ने , सदेव अपनी होशियारी दिखाई !  जे पी , आन्दोलन से लेकर अन्ना , रामदेव  , आंदोलनों को विदेश समर्थित कहा !  आज़ादी से लेकर आजतक भारत में स्वतंत्र अस्तित्व रखने वाली ' आर एस एस ' को  एक ' अछूत ' संस्था के रूप में निरुपित किया , जैसे वो कोई रास्ट्रीय विचार रखती ही नहीं , बस एक ' साम्प्रदायिक ' संस्था है ! धर्म निरपेक्षता का अर्थ ' राजनेतिक उदासीनता ' के रूप में निरुपित करने की कोशिश की गयी ! देश के एक बड़े तबके , ' हिन्दुओं ' के हितों की उपेक्षा की गयी , उन्हें समाज के विभिन्न वर्गों में , टुकड़े टुकड़े में बाँट दिया गया ! आरक्षण ' के नाम पर 'योग्यता ' को ठेंगा दिखाया गया , उसके मार्ग को अवरुद्ध किया ! ' बेरोजगार ' युवाओं की लम्बी फौज को  यहाँ वहां  अपने ढंग से हाथ आजमाने के लिए छोड़ दिया गया , जिससे ' अपराधों ' में वृद्धि हुई !  ' कट्टर पंथी ' धर्मों  के अनुयायियों को , 'वोट बेंक ' की तरह उपयोग में लाया गया ! " गाँधी वादी " विरोध के तरीकों की उपेक्षा की गयी ! जिस अनशन से गांधी ने ब्रिटिश सरकार की चूलें हिला दी थी , उसी अनशन की खिल्ली उड़ाई गयी , उसे अनदेखा किया गया ! ' उपवास ' और अनशन ' का बुनियादी फर्क भी कांग्रेसी मंत्री नहीं जान पाए !
 आज देश,...  दुश्मनों की कार्यवाहियों से प्रभावित है ! जंगलों में ' माओवादी ' कब्ज़ा कर रहे हैं , बस्तियों में बंगला देशी , और शहरों में आतंकवाद का साया है ! हमारे नेता ' संसद ' में बैठ कर , 'गाल्बजाऊ ' एक जुटता का परिचय दे रहे हैं ! कोई बाहर निकल कर ' जनता ' से रूबरू नहीं होना चाहता ! जनता की त्रासदियों ' - बाढ़ ' - सूखे का निरीक्षण हवाई जहाजों में बैठ कर करते हैं , ट्रेन अक्सीडेंट का जायजा लेने जाते हैं , तो प्लेटफार्म पर अपने ' चरण ' नीचे उतरने के लिए पहले ' कारपेट ' बिछ्वाते हैं ! ज़मीनी हकीकत से बहुत दूर , खबरी चेनलों के ऐ सी कक्षों में बैठ कर , 'बहस ' और महाबहस ' के कार्यक्रमों में बैठकर ,तर्कबाजी , बेतुके बयानों को देकर , नेता सोच लेते हैं की उन्होंने जग जीत लिया !    कोई बतादे - इन पिछले ९ सालों में , किस गृह मंत्री का हेलीकाप्टर , किस गावं में उतरा ? कितनी बार प्रधान मंत्री ' हिंदी ' में जनता से 'रूबरू ' हुए ? , कितनी बार राष्ट्रपति , विदेशी यात्राओं के स्थानों की बजाय , देश के गाँव की यात्रा किये ?  ...शायद इस सबकी जरुरत कांग्रेसियों को नहीं दिखाई देगी , क्योंकि वे जनता की सरकार नहीं , पार्टियों की सरकार है !
शतुरमुर्ग अपना मुह ज़मीन में छूपा कर सोचता है की कोई ' विपदा ' है ही नहीं ! जहाँ वो रह रहा है , वहां उसे कोई परेशानी नहीं ! लेकिन यह तो एक ' ख्याल ' भर है ! असली सुरक्षा  तो उससे कोसों दूर है !

शनिवार, 4 अगस्त 2012


उस   दिन मध्यप्रदेश के एक ' वनग्राम' में रात को  एक मित्र के घर में रुकना पड़ गया !
सुबह तीन बजे ही नींद खुल गयी , ग्राम के बगल में ही गहन वन था , ! मन में आया क्यों ना थोड़ा  'वन' की सैर की जाये ! मित्र को जगाया , वह मेरी इच्छा भांप कर तैयार होगया ! कुछ ही देर में  हम जंगल में प्रवेश कर गए !  सुनसान जंगल में  चलते हुए मैंने मित्र को पूछा , ' यहाँ लोग प्रातः भ्रमण ' नहीं करते ..? , वह बोला - ' इस जंगल में बहुत कम ही लोग आतेजाते  हैं  नक्सलियों का डर है ..! " में सकपका कर चुप हो गया ! थोड़ी देर बाद हम लोगों ने देखा - एक विचित्र सी आकृति हमारे सामने सामने तेज कदमो से चल रही थी ! वह एक अधेढ़ पुरुष था ! रंग बिलकुल कला आबनूसी , और सर पर एक शिखा लहरा रही थी ! बदन पर सिर्फ एक उत्तरीय था , और कंधे पर लटकती ' जनेऊ ' उसके ब्राम्हण होने का संकेत दे रही थी ! मेने थोडा शशंकित हो कर मित्र को निहारा , वह चुपचाप चल रहा था .. फिर आगे देखा तो आकृति गायब थी ! मेने दबी ज़बान से मित्र से पूछा  - यह क्या हो सकता है .....? ' वह धीरे से बोला -'इस वन में बहुत सी आक्रतिया ब्रम्ह्बेला में घुमती है  उनमे से ही कोई है ' ! मेने कोतुहल में पैर तेजी से बढ़ा कर उसके समीप पहुँचाने की कोशिश की  लेकिन आश्चर्य वह आकृति  सामने उसी दूरी पर बनी रही ! अब मुझे और भी उत्सुकता होने लगी आखिर यह सब क्या है ? तभी एक गूंजती सी आवाज़ सुनाई दी ..' तुम कौन हो मित्र या शत्रु ..? , मेरा पीछा किसलिए कर रहे हो ? "  मेरे पैर ठिठक गए सोचने लगा की इसने बिना मुड़े ही कैसेदेख  लिया की मै इसके पीछे हूँ ? तभी वह आवाज़ फिर आई - " यदि मित्र हो तो मेरे पीछे आने का तात्पर्य बताओ " ! मेरी आवाज़ बन्ध गयी थी फिर भी कहा - 'देव ..!! में सिर्फ आपके दर्शन करना चाहता हूँ  और जानना चाहता हूँ की आप कौन है ..!!""  'ठीक है .. अपनी बाएँ और देखो " .. मेने उसके कहे अनुसार बाएँ और देखा -  वह आकृति अब कुछ दुरी पर मेरे सामने  थी ! - मेने ध्यान से देखा - सर पर लम्बी शिखा ही नहीं , बल्कि एक श्वत दाढीमुह पर लहरा रही थी , नेत्रों में अजीब सी चमक के साथ द्रढता  थी ,  एक ऐसी शक्शियत सामने थी जो पोराणिक ही हो सकती थी !  उसे देख कर  जैसे में यंत्र चालित हो गया ! मेरा मित्र भी चुपचाप मेरे से सट कर कर खडा  होगया !   'कहो क्या कहना चाहते हो ..? '
कुछ नहीं देव पहले तो आप मेरा ' नमन ' स्वीकार करें '..! फिर बताएं की आप कौन है ..? "
में ' विष्णुगुप्त ' हूँ .. तुम लोगों ने मेरा नाम ' चाणक्य ' के नाम से किताबों में पढ़ा होगा ! "
नाम सुनते ही हम दोनों धरा पर साष्टांग  लेट गए ! यह कैसा अवसर था .. अद्भुत जो हम इतिहास के एक अद्वितीय विभूति से साक्षात्कार कर रहे थे .!.हमारा रोम रोम सिहर उठा !  "
उसने गंभीर स्वर में कह - 'उठो '''तुमारी विनयशीलता ने मुझे प्रभावित किया .. मेरे पास समय कम है  पौ फटते ही में इस वन से बाहर चला जाउंगा  यदि मुझसे कुछ पूछना हो तो पूछ लो "
"देव .. ! आप राजनीती के देव हैं ! बस हमारे देश की वर्तमान राजनीती के बारे में कुछ हमें मार्ग दर्शन देदें ! "

वे हँसे  फिर बोले ' भारत की राजनीती इस समय मेरे काल के ' नन्द वंश ' से भी ज्यादा निकृष्ट है ! किन्तु उसका कारण में खुद को मानता हूँ ! "
" क्यों देव ..?"
 " मैंने ही सबसे पहले राजनेतिक समस्या के हल के लिए , 'चन्द्रगुप्त ' का विवाह ' एक विदेशी जाती में करवाया था , जिससे ' वर्णशंकर ' संतान उत्पन्न हुई ! .. फिर बाद में यवनों के आक्रमणों के बाद , यह प्रथा बढ़ गयी , और समाज में बहुत से यवन हमारे ही बीच उत्पन्न हो गए ! आंग्ल देश वासियों के राज में यह प्रथा एक फेशन हो गयी , हमारी संस्कृति का विनाश हुआ और आज भारत इन्ही कारणों से बस एक रंग बिरंगे लोगों के रहने की " धर्मशाला ' बन गयी , जहाँ कोई भी ना तो अब ' राष्ट्र भक्त  ' है और नाही  ' जिम्मेदार ' ! "
' सच है देव ! लेकिन आज तो हमारे साशनकर्ता   ही हमारे धन को लूट ने में लगे हैं .., जीवन दूभर है .कही शांति नहीं "
" में जानता हूँ वत्स ! "
 तो फिर हमारे लिए क्या उपाय है ? हम कैसे इस स्थिति से बचें !"
विष्णुगुप्त  गंभीर हो गए ! फिर बोले ' उपाय तो सरल है "
क्या उपाय है देव ..? "
' तालाब को दूषित करने वाली 'काई  ' को नष्ट करने के लिए जैसे एक ' मुट्ठी ' चूना पर्याप्त है वैसे ही शाशन पर काबिज़ हुए गंदे लोगों को दूर करने के लिए ' मुट्ठी भर ' इमानदार 'लोग  काफी हैं   जो तालाब में उतरने का हौसला रखते हो ! "
 लेकिन देव ! उन लोगों से लड़ना आसान नहीं ! वे ' हिंसक ' भी हैं ..!"
विष्णुगुप्त की आवाज़अचानक कड़क हो गयी ! - ' हिंसा और अहिंसा ' की शिक्षा तो बुद्ध , और गाँधी की देन है जिसने तथाकथित सज्जनता को आभूषण बना कर हर इमानदार को भीरु बना दिया है !  यही कारन है की भारत में अपराधी राज कर रहे हैं ! याद रखो - तालाब की सफाई के लिए उतरना है तो मन में इमानदारी , . ह्रदय में द्रढ़ता , और एक हाथ हमेशा  'तलवार की मूंठ ' पर रखना होगी ! "

लेकिन देव..!  तालाब यानि सता में प्रवेश भी तो आसान नहीं ,, गणतांत्रिक देश है , कई पार्टियाँ है , लोग धर्म जाति समुदायों में बनते है .., कैसे आगे बढ़ें " विष्णुगुप्त थोड़ी देर चुप रहे  फिरहमें नज़दीक बुलाया ! उन्होंने अपने उत्तरीय में से एक थैली निकाली जिसमें कई रंगबिरंगे ' कंकड़ ' थे !  फिरज़मीन पर एक बहुत बड़ा और एक छोटा घेरा खींचा ! उन्होंने वे रंग बिरंगे कंकड़ बड़े घेरे में डाल दिए और कहा - ' ध्यान से देखो ! यह बड़े घेरे में देश की जनता है जो विभिन्न  रंगों में और बड़ी संख्या में है !  ! "इनमे से निकल कर कुछ लोग इस ' छोटे घेरे ' में जाते हैं जो " सत्ता " का घेरा है ! यहाँ पहुँच कर भी वे बिना एक दुसरे की मदद के ' सरकार ' बनाने में असफल हैं ! '
  'सही है देव " ! - हमने कहा !
' राजनीती का पहला पाठ है की विजय चाहिए तो शत्रु को तितर बितर करदो ! , इसके लिए उचित होगा की बड़े घेरे को ही तितर बितर करदो "
इसका क्या मतलब है देव !" -- हमने आश्चर्य से पूछा !
इसका मतलब है की जितनी संख्या में पार्टियां गंदे लोगों की लड़ें , उतनी ही संख्या में पार्टियां अच्छे लोगों की लड़ें..!. , इससे' लोगों ' मत '  तितर बितर होंगे ! छोटे घेरे में कई पार्टियां पहुचेंगी ,  जिन्हें एक होना जरुरी होगा ! और वहां पहुँच कर अच्छे लोग फिर एक हो जाएँ ..  तो शाशन अच्छे लोगों का ही होगा ! !! लेकिन अंतिम बात वही है - अच्छे लोग यानि अच्छे लोग .. सिर्फ ईमानदार ! "

हम अवाक हो कर उस देव शक्ति को निहार ने लगे ..! पूर्व में पौ फटने लगी और वह आकृति धीरे धीर विलुप्त होगई !

क्या यह संभव iहै -- हम सोचते हुए लौटने लगे !

--सभाजीत